विशेषज्ञों के कुछ सुझाव

एमएसीडी कहां आता है?

एमएसीडी कहां आता है?
जिसमें संज्ञा के दो रूपों को बताया गया हैं।

लिंग: परिभाषा, अर्थ, पहचान भेद और उदाहरण

Ling Badlo

हिंदी व्याकरण में लिंग बहुत महत्वपूर्ण हैI जिस संज्ञा शब्द से व्यक्ति की जाति का पता चलता है उसे लिंग कहते हैं। इससे यह पता चलता एमएसीडी कहां आता है? है की वह पुरुष जाति का है या स्त्री जाति का है। उदाहरण के लिए : पुरुष जाति में = मोहन, लड़का, शेर, घोड़ा, दरवाजा, पंखा, कुत्ता, पिता, भाई आदि। और स्त्री जाति में = मोहिनी, लड़की, शेरनी, घोड़ी, कैची, अलमारी, माता, बहन आदी। तो चलिए देखते हैं लिंग के भेद और उदाहरण।

लिंग की परिभाषा

लिंग का तात्पर्य ऐसे प्रावधानों से जिसके द्वारा वक्ता के एमएसीडी कहां आता है? स्त्री, पुरूष तथा ​निर्जीव और सजीव अवस्था के अनुसार परिवर्तन होते हैं। विश्व में लगभग एक चौथाई भाषाओं किसी ना किसी प्रकार की ‘लिंग’ व्यवस्था है। अर्थात “संज्ञा के जिस रूप से व्यक्ति एमएसीडी कहां आता है? या वस्तु की नर या मादा जाति का बोध हो, उसे व्याकरण में ‘लिंग’ कहते हैं। दूसरे शब्दों में- संज्ञा शब्दों के जिस रूप से उसके पुरुष या स्त्री जाति होने का पता चलता है, उसे लिंग कहते हैं। सरल शब्दों में- शब्द की जाति को ‘लिंग’ कहते हैं।

लिंग का शाब्दिक अर्थ है— निशान के साथ पहचान का साधन, शब्द के जिस रूप से यह जाना जाय कि वर्णित वस्तु या व्यक्ति पुरूष् जाति का है, या स्त्री जाति का,उसे लिंग कहते है।

लिंग संज्ञा का गुण है,अत: हर संज्ञा शब्द या तो पुल्लिंग होगा या स्त्री लिंग।
लिंग के द्वारा संज्ञा, सर्वनाम,विशेषण आदि शब्दों की जाति का बोध एमएसीडी कहां आता है? एमएसीडी कहां आता है? होता है ।

लिंग के भेद

लिंग के मुख्यतः तीन भेद होते हैं-

  • पुल्लिंग (पुरुष जाति)
  • स्त्रीलिंग (स्त्री जाति)
  • नपुंसकलिंग (जड़)एमएसीडी कहां आता है?

पुल्लिंग: वे संज्ञा शब्द जो हमें पुरुष जाति का बोध कराते हैं, वे शब्द पुल्लिंग शब्द कहलाते हैं। जैसे :

  • सजीव : घोडा, कुत्ता, गधा, आदमी, लड़का, आदि।
  • निर्जीव : एमएसीडी कहां आता है? गमला, दुःख, मकान, नाटक, लोहा, फूल आदि।

कुछ पुल्लिंग शब्द एवं उनका वाक्य में प्रयोग:

यहाँ लिंग में एमएसीडी कहां आता है? पुल्लिंग शब्द के कुछ उदाहरण हैं I

  • इंधन : इंधन जलाने से प्रदुषण होता है।
  • घाव : तीर लगने से घाव हो गया है।
  • घी : हमें चावल के साथ घी खाना चाहिए।
  • अकाल : हमारे यहाँ हर साल अकाल पड़ता है।
  • एमएसीडी कहां आता है?
  • आँसू : मेरी आँखों से आंसू आ रहे हैं।
  • रुमाल : मेरा रुमाल मैंने तुम्हे दे दिया था।
  • आइना : आइना आज साफ़ नज़र आ रहा है।
  • स्वास्थ : तुम्हारा स्वास्थ ठीक रहना चाहिए।
  • क्रोध : क्रोध करना हमारे एमएसीडी कहां आता है? स्वास्थ के लिए हानिकारक है।
  • होश : उस लड़की को देखते ही मेरे ओश उड़ गए।
  • तीर : मुझे हवा में तीर चलाना आता है।
  • दाग : स्याही एमएसीडी कहां आता है? एमएसीडी कहां आता है? लगने से मेरी सफ़ेद कमीज़ पर नीला दाग हो गया।
रेटिंग: 4.73
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 210
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *