विदेशी मुद्रा ब्रोकर समीक्षाएं

आगे अनुबंध

आगे अनुबंध

आगे अनुबंध

प्र.17. "धोखाधड़ी" का मतलब है और एक अनुबंध के लिए एक पार्टी द्वारा की गई किसी भी निम्नलिखित कृत्यों, या उसकी मिलीभगत के साथ, या उसके एजेंट द्वारा भी शामिल है 1 , एक और बहां पार्टी या उसके एजेंट को धोखा देने के लिए, या अनुबंध में प्रवेश करने के लिए उसे प्रेरित करने के इरादे के साथ : -

(1) डेरिवेटिव सुझाव, एक तथ्य के रूप में, एक के बाद, जो सच नहीं है कि कौन इसे सच करने के लिए विश्वास नहीं करता;
(2) एक ज्ञान या तथ्य का विश्वास होने से एक तथ्य की सक्रिय आड़;
(3) यह प्रदर्शन का कोई इरादा बिना किए गए वादे;
(4) संचार सेवाएं किसी भी अन्य अधिनियम को धोखा देने के लिए फिट;
(5) कानून के रूप में ऐसे किसी अधिनियम या चूक विशेष रूप से धोखाधड़ी होने की घोषणा की.

स्पष्टीकरण -. मामले की परिस्थितियों उन्हें करना पड़ा जा रहा संबंध है, यह व्यक्ति मौन रखने का कर्तव्य है, ऐसी हैं कि जब तक एक अनुबंध में प्रवेश करने के लिए एक व्यक्ति की इच्छा को प्रभावित करने की संभावना तथ्यों को मात्र मौन, धोखाधड़ी नहीं है बात करने के लिए 1 , या जब तक उनकी चुप्पी, अपने आगे अनुबंध आप में, भाषण के बराबर है.

Related Links

मुख्य पृष्ठ

पंजाब में अन्य पिछड़ा वर्ग प्रमाणपत्र आगे अनुबंध के लिए आवेदन करने हेतु प्रपत्र उपलब्ध कराया गया है। यह प्रपत्र अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा उपलब्ध कराया गया है। आवेदक प्रपत्र डाउनलोड कर आवश्यकतानुसार भर सकते हैं।

राजस्व और पुनर्वास 2003 से अधिसूचना

राजस्व और पुनर्वास 2003 से अधिसूचना

पंजाब में विकलांगता प्रमाण पत्र निर्गत करने के लिए आवेदन प्रपत्र

पंजाब में विकलांगता प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए आवेदन प्रपत्र उपलब्ध कराया गया है। प्रपत्र भरने के लिए आवश्यक प्रलेखों और प्रपत्र भरने से संबंधित दिशा-निर्देश की जानकारी दी गई है। आवेदक प्रपत्र डाउनलोड कर आगे भी उपयोग कर सकते हैं।

औद्योगिक नीति की अधिसूचना, 2009, पंजाब

औद्योगिक नीति की अधिसूचना, 2009, पंजाब

पंजाब में मृत्यु प्रमाणपत्र में सुधार के लिए आवेदन प्रपत्र

पंजाब में मृत्यु प्रमाण पत्र में सुधार के लिए आवेदन प्रपत्र दिया गया है। आवेदक आगे अनुबंध प्रपत्र डाउनलोड कर आगे भी उपयोग कर सकते हैं। प्रपत्र भरने के लिए निर्देश उपलब्ध हैं।

पंजाब में जन्म प्रमाणपत्र में सुधार के लिए आवेदन पत्र

पंजाब आगे अनुबंध में जन्म प्रमाण पत्र में सुधार के लिए आवेदन करें। आवश्यक दस्तावेजों और प्रपत्र भरने के लिए दिशा-निर्देशों की जानकारी दी गई है। आवेदक प्रपत्र को डाउनलोड कर आगे भी उपयोग कर सकते हैं।

पंजाब में स्थित वन्यजीव अभयारण्यों के बारे में जानकारी प्राप्त करें

वन विभाग एवं वन्य जीव संरक्षण द्वारा पंजाब के वन्यजीव अभयारण्यों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई है। बीर मोती बाग वन्यजीव अभयारण्य, बीर गुरदियालपुरा वन्यजीव अभयारण्य, बीर मेहस वन्यजीव अभयारण्य इत्यादि के बारे में जानकारी दी गई है।

पंजाब के ग्रामीण क्षेत्रों में मृत्यु प्रमाणपत्र के लिए आवेदन करें

पंजाब के ग्रामीण क्षेत्रों में मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए आवेदन प्रपत्र दिया गया है। आवेदक प्रपत्र को डाउनलोड करके इसे आगे भी उपयोग कर सकते हैं। प्रपत्र भरने के लिए निर्देश उपलब्ध हैं।

पंजाब में जन्म प्रमाण पत्र में बच्चे का नाम जोड़ने के लिए आवेदन प्रपत्र

पंजाब में जन्म प्रमाण पत्र में बच्चे का नाम जोड़ने हेतु डाउनलोडेबल आवेदन प्रपत्र दिया गया है। यह प्रपत्र स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा उपलब्ध कराया गया है। आवेदक प्रपत्र डाउनलोड कर आवश्यकतानुसार भर सकते हैं।

पंजाब के एनआरआई मामले के बारे में जानकारी

पंजाब के एनआरआई मामले विभाग के बारे में जानकारी प्राप्त करें। आप पंजाब, इसके इतिहास, त्योहारों, पर्यटन, संग्रहालयों, किलों एवं महलों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। अनिवासी पंजाबी प्रिविलेज कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आप अपनी शिकायत भी ऑनलाइन दर्ज करा सकते हैं। आप एनआरआई कनेक्ट के माध्यम से सभी सरकारी गतिविधियों एवं पंजाब के अप्रवासी भारतीयों के लिए उपलब्ध सेवाओं से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड अधिकारियों के फोन नंबर

उपयोगकर्ता पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड की संपर्क निर्देशिका देख सकते हैं। आप अधिकारियों के नाम, उनके पद, शाखा कार्यालय, प्रोफाइल और फोन नंबर की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

पंजाब के परिवहन विभाग की संपर्क विवरणी

आप पंजाब के परिवहन विभाग की संपर्क विवरणी देख सकते हैं। उपयोगकर्ता अधिकारियों के नाम, कार्यालय का फोन नंबर, आवास का फोन नंबर, फैक्स नंबर और एसटीडी कोड आदि आदि की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

RGPV के कुलसचिव की भगवान हनुमान से शिकायत: अनुबंध आगे बढ़ाने की मांग करने वाले 100 संविदा प्राध्यापकों को धक्के मारकर ऑफिस से भगाया; भगवान को शिकायती आवेदन भी दिया

कुलसचिव के आफिस से भगाए जाने के बाद भगवान की शरण में पहुंचे संविदा प्राध्यापक पहुंचे। - Dainik Bhaskar

राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विष्वविद्याल (RGPV) के कुलसचिव के खिलाफ संविदा प्राध्यापकों ने भगवान हनुमान से शिकायत की है। उन्होंने अनुबंध आगे नहीं बढ़ाने का विरोध का यह नया तरीका निकाला। ऑफिस से भगाए जाने के बाद सभी कैंपस में ही बने भगवान हनुमान के मंदिर पहुंचे और एक शिकायती आवेदन भी दिया।

इसमें लिखा कि अनुबंध आगे नहीं बढ़ने से 100 संविदा प्राध्यापकों की नौकरी पर तो संकट आ ही गया है, लेकिन परीक्षा समेत सभी तरह के काम भी प्रभावित होने से छात्रों का नुकसान होगा। हालांकि RGPV के कुलसचिव आरएस राजपूत से संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन उनकी तरफ से कोई कमेंट्स नहीं मिल पाया।

प्रांतीय तकनीकी अतिथि एवं संविदा प्राध्यापक महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष देवांश जैन ने बताया कि RGPV में 100 संविदा प्राध्यापक हैं। हर साल 16 जून को कांट्रेक्ट रीन्यू होता है। इस बार कॉलेज प्रबंधन ने 16 जून होने के बाद भी कांट्रेक्ट रीन्यू नहीं किया। इस कारण सभी की सेवाएं खत्म हो चुकी हैं।

इसके बाद भी उन्हें काम पर बुलाया जा रहा है। उन्हें आशंका है कि यह सभी को गेस्ट फैकल्टी में परिवर्तित करना चाहते हैं। इस कारण ऐसा किया गया है। इसी सिलसिले में हम आज यानी सोमवार दोपहर कुलसचिव आरएस राजपूत से मिलने उनके ऑफिस गए। उन्होंने मिलने से मना कर दिया और हमारे आग्रह करने पर एक महिला गार्ड अनिता को आगे कर दिया।

सभी प्राध्यापकों से बदसलूकी की और गुंडागर्दी की गई। उन्होंने महिला आयोग एवं थाने में जा कर FIR कराने की धमकी दी। आफिस के एक कर्मचारी ने सभी प्राध्यापकों से बदसलूकी की और मार के भगाने की धमकी दी। इस घटना की शिकायत कुलपति सुनील कुमार गुप्ता से भी की।

भगवान की शरण में पहुंचे

विरोध एवं अपनी नौकरी वापिस मिल जाए इसके लिए सभी कैंपस में बने भगवान हनुमान के मंदिर में पहुंचकर हनुमान जी से प्रार्थना की। मंदिर में एक पत्र भी भगवान हनुमान के नाम पर दिया। इसमें उन्होंने लिखा- आप हमारे प्रिय कुलसचिव महोदय को सद्बुद्धि दें। वे हमें जल्द हमारी नौकरी वापस दिलवाएं। जिससे हमें और हमारे परिवार को मानसिक और आर्थिक नुकसान से बचाया जा सके। अब आप ही हमें बचाने की कृपा करें।

प्रेरकों का अनुबंध आगे नहीं बढ़ाने पर रोष

दौसा. सतत शिक्षा कार्यक्रम में 31 मार्च 09 तक कार्यरत रहे प्रेरकों को वर्ष 2009 में केंद्र सरकार द्वारा मार्च 2017 तक साक्षर भारत योजना में नियुक्ति दी गई। प्रतिवर्ष 1 अप्रैल से 31 मार्च तक का अनुबंध पत्र भराया। 1 अप्रैल से 31 मार्च 2015 तक राज्य सरकार द्वारा नए अनुबंध पत्र भराने के आदेश जारी किए, लेकिन हाल ही में चुनाव आचार संहिता का हवाला देकर उक्त आदेशों को निरस्त कर बेरोजगार करने की तैयारी कर ली गई है। इससे प्रेरकों में रोष है। आचार संहिता के नाम पर 2003 से कार्य कर रहे प्रेरकों के ऊपर तलवार लटकाने पर शनिवार को जिला कार्यकारिणी के सदस्यों की नेहरू पार्क में हुई बैठक में गलत ठहराया गया। जिलाध्यक्ष इमामुद्दीन खान व कार्यकारी जिलाध्यक्ष दीपक शर्मा, उपाध्यक्ष विजय लक्ष्मी शर्मा, महामंत्री उर्मिला शर्मा ने बताया कि सीधे मतदाताओं से जुड़ाव रखने वाले प्रेरकों का अनुबंध नहीं बढ़ाने से मतदाता जागरूकता अभियान प्रभावित हो सकता है।

रेटिंग: 4.91
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 608
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *