विदेशी मुद्रा फोरम

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार
गाजियाबाद: रेडिसन ब्लू के मालिक ने दिल्ली खेल गांव के फ्लैट में की आत्महत्या, सामने आई बड़ी वजह

घटता विदेशी मुद्रा भंडार, बढ़ती महंगाई और कमजोर रुपया, अर्थव्यवस्था की इन तीन चुनौतियों से कैसे निपटेगा भारत

Indian Economy आरबीआई की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक भारत विदेशी मुद्रा भंडार 532.66 बिलियन डालर पर पहुंच गया है। यह जुलाई 2020 के बाद विदेशी मुद्रा भंडार का सबसे न्यूनतम स्तर है। रुपया भी डालर के मुकाबले न्यूनतम स्तर पर बना हुआ है।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। कोरोना और फिर रूस- यूक्रेन युद्ध के बाद से दुनिया में उथल- पुथल मची हुई है। एनर्जी से लेकर खाद्य वस्तुओं आदि के दाम तेजी से ऊपर जा रहे हैं। इस कारण महंगाई उच्चतम स्तर, डालर के मुकाबले रुपया और विदेशी मुद्रा भंडार निचले स्तर पर है। शुक्रवार को आरबीआई की ओर से जारी किए गए डाटा के मुताबिक 30 सितंबर को समाप्त होने वाले सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार गिरकर 532.66 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया है और यह जुलाई 2020 के बाद विदेशी मुद्रा भंडार सबसे न्यूनतम स्तर है। इसके साथ ही महंगाई को काबू करने के लिए आरबीआई लगातार ब्याज दर बढ़ाता जा रहा है, जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था की भारत का विदेशी मुद्रा भंडार गति भी धीमी होती जा रही है।

रुपये का गिरना

डालर के मुकाबले रुपये के गिरने के कारण आयात महंगा हो जाता है। इससे विदेशों के आने वाले सामान जैसे कच्चे तेल और इलेक्ट्रानिक सामानों का आयात महंगा हो जाता है। वहीं, विदेशों में पढ़ने वाले छात्रों और इलाज करने जाने वाले लोगों के लिए रहना खाना महंगा हो जाता है। बता दें, बीते शुक्रवार को डालर के मुकाबले रुपया अब तक के सबसे न्यूनतम स्तर 82.30 के स्तर पर बंद हुआ था।

AIBEA calls off Nov 19 nation-wide bank strike

महंगाई

महंगाई का सीधा प्रभाव किसी भी आम व्यक्ति की जेब पर पड़ता है। उसे दैनिक उपभोग में होने वाली चीजों पर पहले के मुकाबले अधिक खर्च करना पड़ता है। कम बचत करने के कारण इससे सेविंग्स पर भी प्रतिकूल असर पड़ता है। सरकार की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, अगस्त में खुदरा महंगाई दर 7 प्रतिशत रही थी और यह आरबीआई की ओर से तय किए गए महंगाई के बैंड 2- 6 प्रतिशत से एक प्रतिशत अधिक है।

Some foreign companies keen to bring hyperloop tech to India says Niti Member VK Saraswat

Foreign Exchange Reserves: कम हो रहा है देश का विदेशी मुद्रा भंडार, घटकर 528.37 अरब डॉलर पर पहुंचा

देश के विदेशी मुद्रा भंडार में लगातार कमी आ रही है। 14 अक्टूबर को समाप्त हुए सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 4.50 करोड़ डॉलर घटकर 528.37 डॉलर पर आ गया। इसकी जानकारी शुक्रवार को भारतीय रिजर्व बैंक ने दी। 7 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार में थोड़ी बढ़ोतरी देखी गई थी जब विदेशी मुद्रा भंडार 20.4 करोड़ डॉलर बढ़कर 532.868 अरब डॉलर पर पहुंच गया था। साल भर पहले समान अवधि में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 645 अरब डॉलर के अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था।

लगातार गिर रहा है रुपये

देश में विदेशी मुद्रा भंडार की कमी का कारण रुपया का डॉलर के भारत का विदेशी मुद्रा भंडार मुकाबले कमजोर होने को माना जा रहा है। डॉलर के मुकाबले रुपये के तेजी से गिरने के कारण रिजर्व बैंक ने विदेशी मुद्रा भंडार का इस्तेमाल किया है। 14 अक्टूबर को खत्म हुए सप्ताह में FCA 2.82 अरब डॉलर की कमी के साथ 468.668 अरब डॉलर पर आ गया। विदेशी मुद्रा भंडार में FCA एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है।

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 2 साल के निचले स्तर पर, क्या होगा गिरावट का असर?

मुंबईः देश के विदेशी मुद्रा भंडार में लगातार गिरावट आ रही है और यह घटकर दो साल के निचले स्तर पर पहुंच गए हैं। विदेशी मुद्रा भंडार 21 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 3.847 अरब डॉलर घटकर 524.52 अरब डॉलर रह गया। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की तरफ से जारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली। इससे पिछले सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 4.50 अरब डॉलर घटकर 528.37 अरब डॉलर रह गया था। पिछले कई महीनों से विदेशीमुद्रा भंडार में कमी होती देखी जा रही है।

अक्टूबर 2021 में सबसे ऊंचे स्‍तर पर था

एक साल पहले अक्टूबर 2021 में देश का विदेश मुद्रा भंडार 645 अरब डॉलर के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया था। देश के मुद्रा भंडार में गिरावट का मुख्य कारण यह है क‍ि रुपए की गिरावट को थामने के लिए केंद्रीय बैंक व‍िदेशी मुद्रा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार भंडार से मदद ले रहा है। अक्टूबर 2021 से अब तक रुपए में गिरावट की वजह से आरबीआई घरेलू करेंसी के मूल्य को गिरावट से बचाने के लिए 100 अरब डॉलर से ज्यादा लगा चुका है।

रिजर्व बैंक की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार, 21 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में मुद्रा भंडार का महत्वपूर्ण घटक मानी जाने वाली, विदेशी मुद्रा आस्तियां (FCA) 3.593 अरब डॉलर घटकर 465.075 अरब डॉलर रह गई। आंकड़ों के अनुसार देश का स्वर्ण भंडार मूल्य के संदर्भ में 24.7 करोड़ डॉलर घटकर 37,206 अरब डॉलर रह गया। केंद्रीय बैंक ने कहा कि विशेष आहरण अधिकार (SDR) 70 लाख डॉलर बढ़कर 17.44 अरब डॉलर हो गया है।

क्या होगा व‍िदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट का असर?

व‍िदेशी मुद्रा भंडार की मदद से कोई भी देश जरूरत पर अपनी करेंसी में आई गिरावट को भारत का विदेशी मुद्रा भंडार थामने के लिए उच‍ित कदम उठा सकता है। आयात पर न‍िर्भर रहने वाले देशों पर इसका सबसे ज्‍यादा असर पड़ता है। दरअसल, मुद्रा में ग‍िरावट से आयात महंगा हो जाता है और सामान के बदले ज्‍यादा कीमत चुकानी होती है। भुगतान की क्षमता पर असर पड़ने से आयात रुकने लगता है और देश में सामान की कमी हो सकती है।

सबसे ज्यादा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार पढ़े गए

बाइडन की पोती नाओमी बाइडन की हुई शादी

बाइडन की पोती नाओमी बाइडन की हुई शादी

आतंकवाद से निपटने के लिए ‘एकसमान और ठोस’ दृष्टिकोण की आवश्यकता : जयशंकर

आतंकवाद से निपटने के लिए ‘एकसमान और ठोस’ दृष्टिकोण की आवश्यकता : जयशंकर

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में जबरदस्त उछाल, भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 14.72 अरब डॉलर बढ़कर 544.715 अरब डॉलर हुआ कोष

LagatarDesk : भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में जबरदस्त उछाल आया है. 11 नवंबर को समाप्त हुए सप्ताह में भारत का कोष 14.72 अरब डॉलर बढ़कर 544.715 अरब डॉलर पर जा पहुंचा. जो अगस्त 2021 के बाद सबसे ज्यादा तेजी है. आरबीआई ने शुक्रवार को आंकड़ा जारी कर इस बात की जानकारी दी. 2022 की शुरुआत में देश का विदेशी मुद्रा भंडार करीब 630 अरब डॅालर था. लेकिन 9 महीने में भारत का भंडार करीब 86 अरब डॉलर घट गया है. बीते 13 हफ्ते में से 11 हफ्ते में विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट दर्ज की गयी है. महंगे आयात और रूस यूक्रेन युद्ध के बाद से लगातार विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट देखने को मिली. (पढ़ें, धनबाद : पहाड़ी गोड़ा शिव मंदिर के पास हुआ भूधसान , लगभग एक फीट नीचे धसा मंदिर)

एक साल में करीब 100 अरब डॉलर कम हो गया भारत का कोष

आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार, इससे पहले 4 नवंबर को समाप्त हुए सप्ताह में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 1.09 अरब डॉलर घटकर 529.99 अरब डॉलर रह गया भारत का विदेशी मुद्रा भंडार था. वहीं 28 अक्टूबर को खत्म हुए सप्ताह में यह 6.56 अरब डॉलर बढ़कर 561.08 अरब डॉलर पर पंहुच गया था. जबकि इससे पहले देश का कोष लगातार घट रहा था. 21 अक्टूबर को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 3.85 अरब डॉलर घटकर 524.52 अरब डॉलर पर आ गया था. 14 अक्टूबर को खत्म हुए हफ्ते में विदेशी मुद्रा भंडार 4.50 अरब डॉलर घटकर 528.37 अरब डॉलर पर आ गया था. 7 अक्टूबर को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 20.4 करोड़ डॉलर बढ़कर 532.868 अरब डॉलर पर पंहुच गया था. वहीं 30 सितंबर को खत्म हुए सप्ताह में यह 4.854 अरब डॉलर घटकर 532.66 अरब डॉलर पर पहुंच गया. जबकि 3 सितंबर 2021 को विदेशी मुद्रा भंडार 642.45 बिलियन डॉलर के ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया था.

39.70 अरब डॉलर पर जा पहुंचा गोल्ड रिजर्व

आंकड़ों के अनुसार, समीक्षाधीन सप्ताह में गोल्ड रिजर्व में भी इजाफा हुआ है. 11 नवंबर को समाप्त हुए सप्ताह में यह 2.64 अरब डॉलर बढ़कर 39.70 अरब डॉलर पर जा पहुंचा. इससे पहले 4 नवंबर को खत्म हुए सप्ताह में स्वर्ण भंडार 70.5 करोड़ डॉलर घटकर 37.057 अरब डॉलर रह गया था. वहीं 28 अक्टूबर को समाप्त हुए सप्ताह में गोल्ड रिजर्व 55.6 करोड़ डॉलर बढ़कर 37.762 अरब डॉलर पर पहुंच गया था.

बता दें कि बीते कुछ दिनों से डॉलर के मुकाबले रुपया लगातार कमजोर हो रहा था, जिसकी वजह से आरबीआई को भारत के कोष से डॉलर बेचना पड़ रहा था. इसलिए विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट देखने को मिल रही थी. लेकिन हाल के दिनों में रुपया थोड़ा मजबूत हुआ है. आरबीआई ने भी डॉलर की जबरदस्त खरीदारी की है. जिसकी वजह से विदेशी मुद्रा भंडार में इजाफा हुआ है.

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार

Please Enter a Question First

निम्नलिखित में से एक भारत की व .

भारतीय रिजर्व बैंक की विदेशी मुद्रा परिसम्पत्ति सरकार की विदेशी मुद्रा परिसम्पत्ति : भारतीय रिजर्व बैंक का स्वर्ण स्टॉक सरकार की विशेष आहरण अधिकार ,

Solution : आरबीआई के स्वामित्व वाली विदेशी मुद्रा/ परिसंपत्तियों, आरबीआई की स्वर्ण सम्पत्ति, स्पेशल ड्राइंग राइट्स (SDRs) और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में जमा भारतीय मुद्रा को भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में शामिल किया जाता है। 29 जनवरी, 2016 तक भारत का विदेशी मुद्रा भंडार ₹23,528 बिलियन था। 3 अक्टूबर, 2017 को भारतीय रिजर्व बैंक के पास विदेशी विनिमय भंडार 400 बिलियन डॉलर को पार कर गया इस प्रकार भारत विदेशी विनिमय भंडार के मामले में आठवें स्थान पर पहुंच गया है।

रेटिंग: 4.75
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 742
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *