शेयर ट्रेडिंग

धुरी अंक के स्तर

धुरी अंक के स्तर
सांकेतिक चित्र

इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स निर्माण की धुरी बनने की ओर बढ़ता भारत

मोबाइल के भारी-भरकम आयात को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में डिजिटल इंडिया रोडमैप जारी किया था। इसका परिणाम यह हुआ कि 2014-15 में जहां देश में मोबाइल हैंडसेट की 80 प्रतिशत मांग आयात से पूरी हो रही थी वहीं 2018-19 में यह आंकड़ा घटकर मात्र छह प्रतिशत रह गया। स्‍पष्‍ट है वह दिन दूर नहीं जब भारत का मोबाइल हैंडसेट आयात शून्‍य स्‍तर पर पहुंच जाएगा।

वोट बैंक की राजनीति करने वाली पिछली कांग्रेसी सरकारों ने भारत में नवोन्‍मेषी संस्‍कृति के विकास की ओर कभी ध्‍यान ही नहीं दिया। उनका पूरा जोर दान-दक्षिणा वाली योजनाओं पर रहता था ताकि वोट बैंक की राजनीति चलती रहे। इस स्थिति को बदलने के लिए मोदी सरकार ने शोध व विकास संस्‍थानों, विश्‍वविद्यालयों और निजी क्षेत्र से देश को इनोवेशन हब में बदलने का आह्वान किया है।

सरकार अनुसंधान व विकास के जरिए देश की समस्‍याओं का टिकाऊ समाधान ढूंढ़ रही है। मोदी सरकार के प्रयासों का परिणाम यह हुआ है कि ग्‍लोबल इनोवेशन इंडेक्‍स में भारत की रैकिंग में सुधार आया है। वर्ष 2019 में भारत इस सूची में पांच अंकों की छलांग लगाकर 52वें स्‍थान पर पहुंच गया। पिछले वर्ष भारत 57वें स्‍थान पर था। अब इनोवेशन के मामले में भारत मध्‍य और दक्षिण एशिया में अग्रणी स्‍थान पर आ गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को दुनिया के शीर्ष 25 देशों में शामिल करने का लक्ष्‍य रखा है।

सांकेतिक चित्र

मेक इन इंडिया मुहिम और इनोवेशन संस्‍कृति को बढ़ावा देने का ही नतीजा है कि देश में इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स वस्‍तुओं का उत्‍पादन तेजी से बढ़ रहा है। 2014-15 में जहां 31.2 अरब डॉलर का इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स वस्‍तुओं का उत्‍पादन हुआ था, वहीं 2018-19 में यह बढ़कर 65.5 अरब डॉलर तक पहुंच गया। उल्‍लेखनीय है कि भारत इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स वस्‍तुओं की मांग का सिर्फ एक–तिहाई ही घरेलू उतपादन से पूरा कर पाता है। शेष मांग आयात के जरिए पूरी होती है। देश के कुल आयात में इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स वस्‍तुओं के आयात की हिस्‍सेदारी 10 प्रतिशत है।

इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स वस्‍तुओं के विनिर्माण में आई तेजी को मोबाइल के जरिए समझा जा सकता है। 2018-19 में पहली बार भारत का मोबाइल फोन हैंडसेट निर्यात आयात के मुकाबले अधिक रहा है। इस दौरान जहां 10,000 करोड़ रूपये का मोबाइल हैंडसेट आयात किया गया वहीं 11,200 करोड़ रूपये का निर्यात किया गया। यह सुनहरे भ्‍ंविष्‍य के लिए छोटी लेकिन शानदार शुरूआत है।

2014-15 में देश में मोबाइल हैंडसेट की 80 प्रतिशत मांग आयात से पूरी हो रही थी जबकि 2018-19 में यह आंकड़ा घटकर मात्र छह प्रतिशत रह गया। स्‍पष्‍ट है, वह दिन दूर नहीं जब भारत का मोबाइल हैंडसेट आयात शून्‍य स्‍तर पर पहुंच जाएगा।

सांकेतिक चित्र

उल्‍लेखनीय है कि मोबाइल के भारी-भरकम आयात को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में डिजिटल इंडिया रोडमैप जारी किया था। इसके तहत 2020 तक नेट शून्‍य आयात का लक्ष्‍य रखा गया था। इसके साथ-साथ सरकार ने 2025 तक 100 करोड़ मोबाइल हैंडसेट निर्माण का लक्ष्‍य रखा है। इसमें से 60 करोड़ मोबाइल हैंडसेट का निर्यात किया जाएगा और इसका मूल्‍य सात लाख करोड़ रूपये होगा।

इंडियन सेलुलर एंड इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स एसोसिएशन के अनुसार 2014-15 में मात्र 5.8 करोड़ मोबाइल हैंडसेट का उत्‍पादन हुआ था जिसका मूल्‍य 18,900 करोड़ रूपये था। इसके विपरीत 2018-19 में 29 करोड़ मोबाइल फोन हैंडसेट का उत्‍पादन हुआ जिनका मूल्‍य 1.81 लाख करोड़ रूपये है। भारत में उपलब्‍ध अवसर का लाभ उठाने के लिए दुनिया की अग्रणी मोबाइल हैंडसेट निर्माता कंपनियां चीन के बजाए भारत में अपनी विनिर्माण इकाइयां लगा रही हैं।

इतना ही नहीं सरकार ऐसी धुरी अंक के स्तर अंतरराष्‍ट्रीय कंपनियों का खाका तैयार कर रही है जो चीन को छोड़कर अन्‍य देशों में निवेश की तलाश में हैं। उल्‍लेखनीय है कि अमेरिका और चीन के बीच चल रहे व्‍यापार युद्ध के कारण अमेरिकी कंपनियों को चीन में कारोबार करने में परेशानी हो रही है। मोदी सरकार इस मौके का फायदा उठाने के लिए हर संभव उपाय कर रही है।

स्‍पष्‍ट है, जैसे-जैसे मेक इन इंडिया मुहिम और इनोवेशन संस्‍कृति जोर पकड़ती जाएगी वैसे-वैसे देश में इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स व इलेक्‍ट्रिक वस्‍तुओं का उत्‍पादन बढ़ेगा और आयात पर निर्भरता घटती जाएगी। इसका दूरगामी प्रभाव व्‍यापार घाटे में कमी, रोजगार सृजन, गरीबी-बेकारी में कमी आदि के रूप में सामने आएगा।

(लेखक केन्द्रीय सचिवालय में अधिकारी हैं। ये उनके निजी विचार हैं।)

धुरी अंक के स्तर

एक तेज सुई या एक तेज सुई के साथ डिस्पोजेबल ब्लं.

एक तेज सुई या एक तेज सुई के साथ डिस्पोजेबल ब्लं.

कुंद सुई के साथ एक बार हयालूरोनिक एसिड इंजेक्शन.

कुंद सुई के साथ एक बार हयालूरोनिक एसिड इंजेक्शन.

हमसे संपर्क करें

दूरभाष: प्लस 86-755-23699351

फैक्स: प्लस 86-755-23699351

जोड़ें: 1606, टॉवर 4, नानताई इनो पार्ट, फेंगहुआंग सेंट, गुआंगमिंग जिला, शेन्ज़ेन, ग्वांगडोंग प्रांत, चीन

अस्थि मज्जा बायोप्सी सुई (रुहर लॉक)

उन्नत डिजाइन निम्नलिखित लाभ सुनिश्चित करता है: बड़े (पुरुष) या छोटे (महिला) हाथों के लिए परिवर्तनीय हैंडल के साथ परिवर्तनीय एर्गोनोमिक हैंडल। हैंडल में रुहर लॉक भी है। एक अद्वितीय प्रतिधारण प्रणाली जो उपयोग में आसान है और नमूना संग्रह की गारंटी देती है, ज्यादा

अस्थि मज्जा बायोप्सी किट

कोर रिजर्वेशन सिस्टम के साथ बोन मैरो बायोप्सी किट का डिज़ाइन अब तक का सबसे उन्नत है और चिकित्सकों के लिए निम्नलिखित लाभों की गारंटी देता है: उपयोग में आसानी और गारंटीकृत नमूना संग्रह अद्वितीय कोर आरक्षण प्रणाली अनुभवहीन के लिए भी उपयोग करना आसान है। सार्थक.

डिस्पोजेबल अस्थि मज्जा बायोप्सी सुई

अब तक उपलब्ध किसी भी बायोप्सी उपकरण के सर्वोत्तम परिणाम प्रदान करने के लिए डिस्पोजेबल अस्थि मज्जा बायोप्सी सुई के हर निर्माण विवरण पर सावधानीपूर्वक शोध किया गया है: आसान पैठ के लिए एक आरामदायक हैंडल। कठोर स्टील सुरक्षित सर्जरी सुनिश्चित करता है। गहराई सीमित कर

सेल बायोप्सी सुई

इको रिफ्लेक्स चिबा सेल बायोप्सी सुई एक चिबा बायोप्सी सुई है जिसकी पूरी लंबाई अल्ट्रासाउंड मॉनिटर पर स्पष्ट रूप से दिखाई देती है, विशेष धातु मिश्र धातु के धुरी अंक के स्तर लिए धन्यवाद जो इसे बनाता है। सुविधाओं में शामिल हैं: क्विन्के सुईपॉइंट इनवेसिव को कम करने और कम करने में म

कोरियोनिक सुई

ऊतक बायोप्सी सुई

संशोधित बायोप्सी सुई बड़ी संख्या में कोशिकाओं को बचाने के लिए कोशिकाओं का उपयोग करती है जो खो जाती हैं और कैनुला या सीरिंज में कैद हो जाती हैं, इस प्रकार नमूनों की नैदानिक ​​​​सटीकता को बहुत कम कर देती हैं। 1984 के बाद से, उपयोग ने इस समस्या को काफी कम कर दिया

डिस्पोजेबल सुई बायोप्सी सुई (हुक)

डिस्पोजेबल सुई बायोप्सी सुई (हुक) का उपयोग नरम ऊतक बायोप्सी या लीवर, किडनी, प्रोस्टेट, प्लीहा, लिम्फ नोड और बी अल्ट्रासाउंड के तहत विभिन्न नरम ऊतक ट्यूमर की एक्स-रे निगरानी के लिए किया जाता है। प्रमाणन: सीई, सीएफडीए, एफएससी क्यूएमएस: आईएसओ 13485 आदर्श: बीएन-एम

डिस्पोजेबल आकांक्षा बायोप्सी सुई (शंक्वाकार)

ऊतक बायोप्सी सुई शंक्वाकार डिस्पोजेबल आकांक्षा सुई बी-मोड या एक्स-मोड के तहत यकृत, गुर्दे, प्रोस्टेट, प्लीहा, लिम्फ नोड और विभिन्न नरम ऊतक ट्यूमर के नरम ऊतक बायोप्सी के लिए उपयुक्त है। रे निगरानी। प्रमाणन: सीई, सीएफडीए, एफएससी क्यूएमएस: आईएसओ 13485 मॉडल: बीएन-

डिस्पोजेबल तार गाइड सुई

बेवल इंडिकेटर और मालिकाना इको कॉन्फ़िगरेशन के साथ सिलिकॉन लुब्रिकेटेड गाइड वायर गाइड पिन। हमारा अनूठा इको कॉन्फ़िगरेशन सटीक प्लेसमेंट प्राप्त करने और अनावश्यक रोगी आघात को कम करने के लिए अल्ट्रासाउंड मार्गदर्शन के तहत सुई छवियों का अनुकूलन करता है। उपलब्ध सुवि

डिस्पोजेबल आरएफ सुई (ट्यूब)

विशिष्टता: बाहरी व्यास: 18G, 19G, 20G, 22G लंबाई: 50 मिमी, 100 मिमी, 150 मिमी प्रभावी लंबाई: 2 मिमी, 5 मिमी, 7 धुरी अंक के स्तर मिमी, 10 मिमी उपलब्ध सुविधाएँ और विकल्प: 510 (के) अंतराल सीई 0413 अंक एक सीधा, घुमावदार, कुंद, या तेज बिंदु अनुकूलन गेज, लंबाई और प्रभावी टिप लंबाई ल

सिंगल-यूज़ गाइड पिन

यह उत्पाद पंचर गाइड के रूप में लम्बर एनेस्थेसिया या एपिड्यूरल एनेस्थेसिया के लिए उपयुक्त है, एपिड्यूरल सुई या पतला सुई ट्यूब स्पाइनल सुई पंचर चैनल के लिए कम प्रतिरोध के साथ, जैसे एपिड्यूरल सुई या स्पाइनल सुई पूर्व निर्धारित साइट में प्रवेश कर सकती है, पूर्ण का

सिंगल-यूज़ पेंसिल-पॉइंट स्पाइनल सुई/सिंगल-यूज़ नॉन-इनवेसिव स्पाइनल सुई

यह मुख्य रूप से निचले पेट, श्रोणि गुहा, गुदा, पेरिनेम और निचले अंगों के स्थानीय संज्ञाहरण के लिए उपयोग किया जाता है। मॉडल: एएन-एस II (पेंसिल टिप) विनिर्देश: 16जी, 17जी, 18जी, 19जी, 20जी, 21जी, 22जी, 23जी, 24जी, 25जी, 26जी, 27जी(25-200मिमी) प्रमाणन: 510के, सीएफ

हम अनुभवी इंजीनियरों, मशीनिस्टों और तकनीकी सलाहकारों की एक फर्म-संयुक्त टीम हैं, जो उत्पाद लागत, गुणवत्ता, असेंबली सेवा आदि सहित सटीक और जटिल मशीनीकृत भागों के निर्माण से संबंधित समस्याओं को हल करने में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

त्वरित नेविगेशन
उत्पाद श्रेणी
हमसे संपर्क करें

फैक्स : +86-755-23699351

पते: 1606, टॉवर 4, नानताई इनो पार्ट, फेंगहुआंग सेंट, गुआंगमिंग जिला, शेन्ज़ेन, ग्वांगडोंग प्रांत, चीन

QR कोड

कॉपीराइट © शेन्ज़ेन शिष्टाचार प्रौद्योगिकी कं, लिमिटेड सर्वाधिकार सुरक्षित।

पंजाब में आप के सीएम कैंडिडेट भगवंत मान 58,206 वोटों के भारी अंतर से जीते


चंडीगढ़ । पंजाब (Punjab) में आम आदमी पार्टी (AAP) के भागवंत मान (Bhagwant Mann) ने गुरुवार को 58,206 वोटों के भारी अंतर (Huge margin of 58,206 votes) के साथ धुरी सीट (Dhuri seat) जीत ली है (Won) । वह पंजाब के अगले मुख्यमंत्री बनने के लिए तैयार हैं। आप 117 सीटों वाली विधानसभा सीट में करीब 92 सीटों पर जीतने के लिए तैयार हैं।

यह भी पढ़ें | सोशल मीडिया में गुजरात की चुनावी जंग तेज, आप और भाजपा अव्वल, कांग्रेस ‘भारत जोड़ो’ में जुटी

भगवत मान ने कहा, “राज्य में कोई सरकारी कार्यालय पंजाब सीएम की तस्वीर नहीं होगी, लेकिन बीआर अम्बेडकर का एक पोर्ट्रेट लगाया जाएगा।”
मान ने कहा कि वह भगत सिंह के गांव खट्टर कलां में मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे और राज भवन में नहीं। “हम यह सुनिश्चित करेंगे कि युवाओं को विदेश जाने की जरूरत नहीं है .. एक महीने के भीतर, आप परिवर्तनों को देखेंगे।”

विपक्षी नेताओं पर निशाना साधते हुए करते हुए, उन्होंने कहा, “बुजुर्ग बादल हार गए हैं .. कप्तान (अमरिंदर सिंह) साहब भी हार गए हैं। मजीठिया भी हार रहा है। चन्नी दोनों सीटों से हार गए हैं।”

गिरावट से उबरा शेयर बाजार, 232 अंक चढ़ा सेंसेक्स

मुंबई। बैंकिंग तथा वित्तीय कंपनियों के साथ ही आईटीसी और रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी दिग्गज कंपनियों के शेयरों में लिवाली से घरेलू शेयर बाजार दो दिन की गिरावट से उबरते हुये आधा फीसदी से अधिक की बढ़त में बंद हुये।

बीएसई का सेंसेक्स 231.80 अंक यानी 0.57 प्रतिशत चढ़कर 41,198.66 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 73.70 अंक यानी 0.61 प्रतिशत की बढ़त में 12,129.50 अंक पर पहुँच गया। मझौली और छोटी कंपनियों भी निवेशक लिवाल रहे। बीएसई का मिडकैप 0.49 प्रतिशत की तेजी के साथ 15,754.41 अंक पर और स्मॉलकैप 0.12 फीसदी की बढ़त में 14,840.69 अंक पर बंद हुआ।

एफएमसीजी, इंडस्ट्रियल्स और पूँजीगत वस्तुओं के समूहों के सूचकांक एक से डेढ़ फीसदी के बीच चढ़े। सेंसेक्स की कंपनियों में बजाज फाइनेंस के शेयर करीब पाँच प्रतिशत और नेस्ले के करीब तीन प्रतिशत चढ़े। टीसीएस में सबसे ज्यादा करीब डेढ़ फीसदी की गिरावट रही।
सेंसेक्स 164.71 अंक की मजबूती के साथ 41,131.57 अंक पर खुला और पूरे दिन हरे निशान में रहा।

इसका दिवस का निचला स्तर 41,108.19 अंक और उच्चतम स्तर 41,334.86 अंक रहा। अंत में यह गत दिवस की तुलना में 231.80 अंक ऊपर 41,198.66 अंक पर रहा। बीएसई में कुल 2,679 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ। इनमें 1,279 के शेयर बढ़त में और 1,232 के गिरावट में रहे जबकि 168 कंपनियों के शेयर दिन भर के उतार-चढ़ाव के बाद अंतत: अपरिवर्तित बंद हुये।

निफ्टी 59.10 अंक चढ़कर 12,114.90 अंक पर खुला। इसका दिवस का निचला स्तर 12,103.80 अंक और उच्चतम स्तर 12,169.60 अंक रहा। अंत में यह मंगलवार के मुकाबले 73.70 अंक की बढ़त में 12,129.50 अंक पर बंद हुआ।

रेटिंग: 4.20
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 414
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *